Notice
जनकृति का जनवरी 2018 (अंक 33) आप सभी के समक्ष प्रस्तुत है। अंक में प्रकाशित सामग्री आप विषय सूची के अनुरूप बायीं ओर विविध स्तम्भ में पढ़ सकते हैं। फरवरी अंक हेतु रचनाएँ, शोध आलेख भेजने की अंतिम तिथि 10 फरवरी है।

ग़ज़ल: संदीप सरस

 

 

पत्थर देखेंगे

 

ख्वाबों  को  अक्सर  देखेंगे।

पहले   से   बेहतर   देखेंगे।

 

उम्मीदें  जब  थक  जाएँगी,

तब  जाकर  बिस्तर  देखेंगे।

 

नींद  हमारी  ख्वाब  हमारे,

क्यों खुद को कमतर देखेंगे।

 

अपने  हिस्से के जीवन में,

जीने  के  अवसर  देखेंगे।

 

धरती पर हम पाँव जमा लें,

फिर अम्बर जी भर देखेंगे।

 

अंदाजा कद का  हो  जाये,

उतनी    ही   चादर   देखेंगे।

 

जब भी सत्य होंठ पर होगा,

माथे   पर   पत्थर   देखेंगे।

 

संदीप सरस

बिसवां, सीतापुर

उ प्र~261201

मो- 9450382515